Log in

 

updated 5:35 PM UTC, Apr 26, 2017
Headlines:

अघोरी ने खिलाई इस शख्स को इंसान की खोपड़ी, वजह जानकर रह जायेंगे हैरान

भारत देश अपनी परंपरा के लिए विश्व भर में जाना जाता है, हाल ही में इसके विपरीत एक घटना घटी। जिसमे इंगलिश के मशहूर न्यूज़ चैनल CNN के एक रिपोर्टर ने भारत में आकर रिपोर्टिंग करने के दौरान इंसान की खोपड़ी खा ली।

 

इस रिपोर्टर का नाम रेज़ा असलान है। दावा किया गया है कि अघोरी साधु ने शो में रिपोर्टर रेज़ा असलान को एक मरे हुए इंसान का नरमुंड खिलाया। अघोरी का दावा था कि ये मनुष्य के दिमाग का हिस्सा है। शो में दिखाया गया कि बनारस में रेज़ा असलान को नरमुंड में डालकर शराब पिलाई गई और फिर दिमाग का हिस्सा खाने को दिया गया। इस शो के प्रसारण के बाद अमेरिकी कांग्रेस की सदस्य तुलसी गबार्ड ने कहा है कि इस तरह के सीन दिखाकर सीएऩएन हिंदुत्व की गलत छवि पेश कर रहा है।

 

बनारस समेत दूसरे हिस्सों में फिल्माए गए इस शो में 44 साल के रेज़ा असलान ने अघोरियों के कहने पर पहले एक चिता की राख अपनी देह पर मली और फिर कई कर्मकांड किए। एक मौके पर बहुत सवाल पूछने से अघोरी चिढ़ गया और रिपोर्टर की गरदन काटने की चेतावनी दे डाली। असलान इरानी मूल के स्कॉलर हैं  जो कई धार्मिक विषयों पर शोध के लिये जाने जाते हैं।

 

इस वीडियो को लेकर अब विवाद गरमाता जा रहा है और कहा जा रहा है कि जान बूझकर ऐसे वीडियो के जरिए भारत की छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है।

 

बड़ा खुलासा: तो इस वजह से नक्सलियों ने किया छत्तीसगढ़ के सुकमा में बड़ा हमला

छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए नक्सली हमले में 25 CRPF जवान शहीद हो गए हैं जबकि कई जवान बुरी तरह से घायल हुए हैं, तो कई लापता हैं।  नक्‍सलियों ने यह हमला दक्षिणी बस्तर के बुर्कापाल–चिंतनगुफा इलाके में दोपहर करीब साढ़े बारह बजे किया था, यह इलाका राज्य के सबसे ज्यादा माओवादी प्रभावित इलाकों में से एक है। सोमवार को छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सलियों ने पहले से ही घात लगाकर बैठे थे। जैसे ही 74वीं बटालियन के 99 जवान दुर्गापाल कैंप से रवाना हुए। चिंतागुफा पहुंचने के बाद ये जवान दो समूहों में बट गए। इन्हें इलाके में चल रहे सड़क निर्माण का प्रोजेक्ट के लिए रास्ते की कॉम्बिंग का काम सौंपा गया था।

नक्सलियों के हमले की वजह

बीते कुछ सालों में सुकमा में सड़क निर्माण के काफी काम हुए हैं। नक्सली इसे अपने लिए बड़ा खतरा मानते हैं। अगर सड़कों का निर्माण हो जाएगा तो वहां बुनियादी सुविधाएं जैसे स्कूल, हॉस्पिटल, और अन्य सुविधाएं स्थानीय लोगों को उपलब्ध होंगी जिससे उग्रवादियों का प्रभाव कम होगा। जिससे बौखलाए नक्सलियों ने देश के जवानों पर हमला किया ताकि ये काम बीच में ही रोक दिया जाए।

 

गृह मंत्रालय ने छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के प्रभाव वाले 44 जिलों में 5,412 किमी. सड़क निर्माण की महत्वाकांक्षी परियोजना को मंजूरी दी है। यह परियोजना नक्सलियों को अपने लिए खतरे की घंटी लग रही है।

राजनाथ सिंह का छत्तीसगढ़ दौरा आज, कहा किसी भी दोषी को नही बख्‍शा जाएगा

छत्तीसगढ़ के सुकमा में कल 24 अप्रैल 2017 सोमवार के दिन साल का सबसे बड़ा नक्सली हमला हुआ। इस नक्सली हमले में 25 CRPF जवान शहीद हो गए हैं जबकि कई जवान बुरी तरह से घायल हुए हैं, तो कई लापता हैं। आज शहीद हुए जवानों को रायपुर में श्रद्धांजलि दी जाएगी। इस मौके पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह पहुंचेंगे। छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए नक्सली हमले से देश के लोगों में न सिर्फ गुस्सा है बल्कि लोगों में बदला लेने की जल्दी भी दिख रही है। देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी लोगों को भरोसा दिलाया है कि जल्द ही ऐसा कदम उठाया जाएगा जिससे नक्सल की कमर तोड़ी जा सके।

सुकमा .jpg

 

देशभर के लोगों ने ट्टवीटर पर सरकार को खूब कोशा और पूछा है कि कब तक देश का जवान गोली खाता रहेगा। पीएम मोदी ने इस खबर को सुनते ही ट्वीट किया और कहा कि शहीदों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देंगे। दरअसल, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह आज नक्सली हमले के बाद छत्तीसगढ़ जाएंगे और मामले की जानकारी लेंगे। इस हमले में 25 CRPF के जवान शहीद हुए है। इसमें 8 जवान घायल भी हुए हैं, जिसमें 4 की हालत गंभीर बनी हुई है।

 

सूत्रों के मुताबिक राजनाथ सिंह के छत्तीसगढ़ दौरे के दौरान गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर और सीआरपीएफ के वरिष्‍ठ अधिकारी भी होंगे। हमले के बाद अपनी प्रतिक्रिया देते हुए राजनाथ ने कहा कि सरकार इसको चुनौती की तरह ले रही है और इसके दोषियों को बख्‍शा नहीं जाएगा।

 

सुभारती में फायर मॉक ड्रील में छात्रों ने सीखे आग पर काबू पाने के तरीके

मेरठ । स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय तथा क्षेत्रिय अग्निशमन प्राधिकरण परतापुर के संयुक्त तत्वावधान में फायर मॉक ड्रील का आयोजन विवि के इंजीनियरिंग कॉलेज में किया गया। मॉक ड्रील के मौके पर अग्निशमन के अधिकारियों ने विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं, शिक्षकों और गैर-शिक्षक कर्मचारियों को आग से बचाव के गुर सिखाये।

 

इस मौके पर अग्निशमन अधिकारी मुकेश कुमार ने मॉक ड्रील के बारे में बताये हुए कहा कि गर्मियों में अक्सर जगह-जगह आग लगने की सूचनायें अधिक प्राप्त होती है। इस मौसम में आग लगने की घटनायें अधिक घटती हैं। अगर लोगों को प्रशिक्षण एवं आपदा से बचने  के गुर समय रहते सिखाए जायें तो घटना से बचा जा सकता है साथ ही  जन और धन की हानि पर भी काबू पाया जा सकता है। अग्निशमन अधिकारी मुकेश कुमार ने बकायदा हूटर बजा कर बिल्कुल आग लगने जैसे स्थिति तैयार की और विद्यार्थियों को आग से बचने के तरीकों के बारे में विस्तार से बताया। साथ ही मुकेश कुमार एवं उनके साथियों ने आग और अधिक न बढने,  उस पर काबू पाने के उपलब्ध उपकरणों की जानकारी एवं उनका प्रशिक्षण प्रदान किया।

fire m.jpg
सुभारती विवि के मुख्य अग्निशमन अधिकारी तरूण काम्बोज ने बताया कि विवि में 14 से 20 अप्रैल तक अग्नि सुरक्षा पखवाड़ा मनाया जा रहा है, जिसका उद्देश्य अधिक से अधिक विद्यार्थियों, शिक्षकों एवं गैर-शिक्षक कर्मचारियों को इसके बारे में प्रशिक्षण देना और उन्हें जागरूक करना है।  वहीं तरुण काम्बोज ने विद्यार्थियों को आग से बचाव के गुर सीखने में आगे आने की अपील की एवं आग से बचने के लिए अन्यों को भी जागरूक करने की सलाह दी। तरुण ने बताया कि विवि में आग से बचाव के लिए एक अलग से विभाग है जो समय -समय पर प्रशिक्षण कार्यशालाओं  का आयोजन करता रहता है। इस मौके पर फायर सुपरवाईजर गजेन्द्र कुमार, फायरमैन अशोक कुमार, अज़ीम, संजय कुमार, इन्द्र सिंह नेगी, सूरज एवं फैजल सहित छात्र-छात्राए, अध्य़ापक और गैर शिक्षककर्मी मौजूद थे।

अखिलेश होंगे एंटी बीजेपी दल में शामिल कहा बीजेपी ने धर्म और जाति पर चुनाव लड़ा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में हुए चुनाव के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी पर जनता को धोखा देकर सरकार बनाने का आरोप लगाया है। शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस के दौरान अखिलेश ने ईवीएम में गडबडी के मामले का समर्थन करते हुए बैलेट से चुनाव की मांग की है, साथ ही यह भी कहा की वह झूठ के खिलाफ गठबंधन को तैयार हैं।

 

चुनाव में मिली करारी हार के बाद समाजवादी सरकार सहित कई अन्य दल भारतीय जनता पार्टी का विरोध करते हुए चुनाव आयोग पर ऊँगली उठा रहे हैं हालांकि चुनाव आयोग पहले ही इस टिप्पड़ी को ख़ारिज कर इवीएम में छेड़ छाड़ करने की खुली चुनौती दे चुका है।

 

अखिलेश ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा यह पूरा चुनाव धर्म और जाती के आधार पर जीता गया है और इस चुनाव के दौरान बीजेपी ने आम लोगों के बीच टकरार पैदा किया है। इसके पहले बसपा सुप्रीमो मायावती भी बीजेपी के खिलाफ काफी कुछ बयान बाजी कर चुकीं हैं और एंटी बीजेपी दलों के साथ देने की बात कर चुकीं हैं।

पाक का नया हथकंडा, किया दावा रॉ के तीन एजेंट गिरफ्तार करने का

पाकिस्तान में चल रहे भारत के पूर्व जलसेना कमांडर कुलभूषण जादव को फांसी के मामले में भारत की ओर से बनाए जा रहे दबाव को कम करने के लिए पाकिस्तान ने नया हथकंडा अपनाया है। पाक ने दावा किया है की उसने पाक अधिकृत कश्मीर से तीन भारतीय जासूसों को गिरफ्तार किया है पाक ने तीन संदिग्ध को मीडिया के सामने नकाब पहनाकर पेश किया और उन्हें रॉ एजेंट बताया।

 

स्थानीय डीएसपी साजिद इमरान ने बताया पकड़े गए संदिग्धों के नाम खलील, इम्तियाज और राशिद है, साथ ही तीनों को 27 सितंबर को अब्बासपुर के पुलिस स्टेशन में हुए हमलों में शामिल बताया है। साथ ही यह भी आरोप लगाया की पैसों के साथ साथ यह तीनों सीमा पार भारत से शराब लाकर यहां बेचने का धंधा भी करते थे।

 

डीएसपी के मुताबिक धमाके के लिए पुलिस स्टेशन में हुए बम धमाके का मुख्य आरोपी खलील था। इस काम को करने के लिए उसे डेढ़ लाख रूपए और बाकी दोनों को 50-50 हजार रूपए दी गए थे।

 

आर्मी जीप पर बंधे युवक ने कहा मैंने कभी पत्थरबाजी नही की फिर भी मुझे बांधकर घुमाया

जम्मू-कश्मीर: जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ के जवानों के साथ बदसलूकी करने वाले कश्मीरी युवकों का वीडियो सामने आने के दो दिन बाद एक और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। वीडियो में दिखा कि सेना के जवानों ने एक युवक को जीप के आगे बांधकर सड़कों पर घुमाया। जिस युवक को बांधा गया था उसका बयान सामने आया है।

 

सूत्रों के अनुसार सेना का दावा है कि जीप पर बंधा शख्स पत्थरबाज ही है। उनके मुताबिक सेना की पांच गाड़ियों के काफिले को पत्थरबाजी और बिना किसी फायरिंग के सुरक्षित गुजारने के लिए यह कदम उठाया गया। विडियो के सामने आने के बाद मानवाधिकारवादी संगठन और तमाम राजनीतिक दल इस कदम की आलोचना कर रहे हैं। सीएम महबूबा मुफ्ती ने भी इस मामले में पुलिस से रिपोर्ट मांगी है।

 

फारूक अहमद ने कहा, 'मैं पत्थरबाज नहीं हूं। अपने पूरी जीवन में मैंने कभी पत्थर नहीं फेंका। में पत्थर चलाने वालों में से नहीं हूँ बल्कि में तो कश्मीर में कुछ छोटे-मोटे काम करता हूँ। मैं एक टेलर के तौर पर काम करता हूं और शॉल में कढ़ाई करता हूं। मुझे थोड़ा बहुत लकड़ी का काम भी आता है।' उसने बताया कि सीआरपीएफ के जवानों ने उसे 9 अप्रैल को सुबह 11 बजे से लेकर करीब 4 घंटों तक सड़कों पर घुमाया।


घटना का जिक्र करते हुए फारुक ने कहा  'उस दिन मैं अपने एक संबंधी की आखिरी यात्रा में शामिल होने के लिए जा रहा था। रास्ते में विरोध प्रदर्शन हो रहे थे। मैं वहां रूक गया, थोड़ी देर बाद कुछ जवानों ने मुझे पकड़ा। उन्होंने मुझे मारा और जीप के आगे बांध दिया। और फिर मुझे 9 गावों में घुमाया उस दौरान सीआरपीएफ जवान गाड़ी से आवाज लगा रहे थे-आओ और अपने ही आदमी पर पत्थर चलाओ।

एक और रेल हादसा! राज्य रानी के आठ डिब्बे पटरी से उतरे

रामपुर: शनिवार सुबह करीब 8:15 बजे मेरठ से लखनऊ जा रही राज्य रानी एक्सप्रेस हादसे का शिकार हुई, रेल के आठ डिब्बे पटरी से उतर गए मौके पर आस पास के लोग पहुंच गए। सुबह करीब 8:15 पर राज्य रानी एक्सप्रेस मुंढापांडे से निकली, स्टेशन से निकलने के करीब दस मिनट बाद कोसी नदी के पास यह रेल हादसा हुआ है।

 

हादसे के बाद रेलवे में अलर्ट जारी कर दिया गया है साथ ही राहत कार्य शुरू किया गया है। आस पास के सरकारी अस्पतालों में भी अलर्ट जारी किया गया है। घायलों को नजदीकी निजी अस्पतालों और रामपुर के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। घटनास्थल पर पहुंचे डीआरएम प्रमोद कुमार ने बताया, हादसे की वजह जाने के लिए उच्च स्तरीय टीम का गठन किया गया है। रेलवे ने घायलों को 50 हजार रूपए देने की घोषणा की है।

 

रामपुर के पास हुए रेल हादसे के बाद दिल्ली-लखनऊ और लखनऊ-पंजाब रास्ते प्रभावित हुए हैं, साल में यह रेल के पटरी से उतरने का तीसरा वाक्या है।

 

यहाँ आवारा कुत्तों का पान-गुटखा खाकर थूकना मना है-आज्ञा से जिलाधिकारी पीलीभीत

पीलीभीत 14 अप्रैल पीलीभीत के जिला कलेक्ट्रट में एक अजब गजब नजारा देखने को मिला। यहां दीबारों पर पान गुटका खाकर थूकने वालों पर कटाक्ष करने के लिए पोस्टर लगाए गए है। इसमें लिखी इबारत में ऐसे लोगों को कुत्ता संबोधित किया गया है। ये डीएम के नाम से  जारी किया गया है।

 

इसको लेकर पूरे कलेक्ट्रेट में तरह तरह की चर्चाएं होती रहीं। अधिकतर लोगों को इस प्रकार का कमेंट्स काफी नागवार लगा। तमाम बुद्धिजीवियों ने दीवारों पर इस तरह के चिपकाए गए इश्तहार को सिरे से खारिज किया है। मीडिया के हरकत में आने पर कर्मचारियों ने उन्हें हटाने का काम प्रारम्भ कर दिया।

 

कलेक्ट्रेट में कुछ ऐसे पोस्टर लगा दिए गए, जिसकी जानकारी खुद डीएम को भी नहीं है। पोस्टर पर अभद्र भाषा का प्रयोग किया गया है। हालांकि डीएम ने इस तरह के पोस्टर की जानकारी होने से इनकार किया है। आशंका यह जताई जा रही है कि पोस्टर किसी खुराफाती ने लगाए होंगे। पीलीभीत में डीएम आफिस के पीछे की ओर पोस्टर देखने को मिले। एक पर लिखा है कि पान गुटखा खाकर थूकने पर 500 रुपये का जुर्माना किया जाएगा। इसके नीचे आज्ञा से जिलाधिकारी पीलीभीत लिखा रहता है।

 

यह बात तो समझ में आती है। कई सार्वजनिक स्थलों पर यह लिखा रहता है, कानून भी यही है। इसके ऊपर एक और पोस्टर करीब उसी साइज का लगा हुआ मिला। इस पर आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया गया है। इसमें जुर्माने की बात भी नहीं है, लेकिन इसके ऊपर जिस शब्दावली का प्रयोग किया गया है, वह अभद्र है। गुरुवार को इसके बाद जब इस संबंध में डीएम मासूम अली सरवर से बात की गई तो वे भी इस तरह की बात से पूरी तरह अंजान दिखे। उन्हें जब बताया गया तो वे  हतप्रभ रह गए।

 

उन्हें फोटो दिखाए गए तो बोले, ऊपर वाले पोस्टर अपने आप में जांच का विषय है।

 

डी एम सरवर ने कहा जांच का विषय

 

पोस्टर में जिस भाषा का इस्तेमाल किया गया है, वह पूरी तरह से गलत है। इस तरह ही अभद्र भाषा का इस्तेमाल किसी को नहीं करना चाहिए। मेरी जानकारी में नहीं है कि यह किसने लगवाए। मैं इसकी जांच कराऊंगा और उसके बाद कार्रवाई की जाएगी।

 

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने कहा, भारत एक कपटी देश है! पीएम मोदी को बताया वजह, जाने पूरा मामला

नई दिल्ली: कुलभूषण मामले में अब पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का बड़ा बयान सामने आया है। परवेज मुशर्रफ का कहना है कि भारत-पाक के बीच रिश्तों में तनाव पीएम नरेंद्र मोदी की वजह से है। उन्होंने कहा पाक नहीं बल्कि भारत एक कपटी राष्ट्र है। वहीं दोनों देशों में बुरे हालातों के पीछे भारत के PM समेत अन्य बड़े नेता जिम्मेदार हैं।

इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान खुफिया एजेंसी ISI के पास कुलभूषण के खिलाफ पुख्ता सबूत है और इन्ही सबूतों के आधार पर कुलभूषण यादव को फांसी की सजा सुनाई गई है। लेकिन वह अभी इन सबूतों को भारत के साथ शेयर नहीं करेंगे बल्कि समय आने पर इसे सार्वजनिक करेंगे।

 

अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को इस मामले में भारत को कोई सबूत या सफाई देने की जरूरत नहीं है। इस से पहले वॉशिंगटन में उन्होंने अपने बयान में कहा कि उनको नहीं पता ISI के पास कौन से सबूत हैं, लेकिन यकिनन उनके पास बड़े सबूत हैं जोकि कुलभूषण के खिलाफ कार्रवाई के लिए पूरे होंगे।

Subscribe to this RSS feed
loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px