Log in

 

updated 10:55 AM UTC, Jun 26, 2017
Headlines:

ग्रामीण विकास के शिल्पी,गठबंधन परम्परा के पुरोधा हैं अटल बिहारी वाजपेयी-रवीश चैहान

भारतीय जनता पार्टी के किसान नेता, किसान मोर्चा के प्रदेश महामंत्री रवीश चैहान ने पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटलबिहारी वाजपेयी के यशस्वी, स्वस्थ दीर्घ जीवन की कामना करते हुए कहा कि श्री अटलजी ने राष्ट्र की चेतना को जगाया और ग्रामीण विकास के शिल्पी सिद्ध हुए। आपने विश्व पटल पर भारत की कीर्ति ध्वजा फहराई और ग्रामीण भारत के विकास का ऐसा ताना-बाना बुना कि गांवों में सड़क क्रांति के माध्यम से विकास की रोशनी पहुंचाई। आजादी के बाद गांवों की चिन्ता करके उन्होंने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क येाजना का उपहार दिया। ग्रामीण सड़के ग्रामीण भारत के विकास की धमनियाॅ सिद्ध हो रही हैं।

 

रवीश चैहान ने कहा कि श्री अटलबिहारी वाजपेयी ने विश्व शक्तियों की नसीहतों को बलाये ताक रखकर पोखरन दो की व्यूह रचना की। पोखरन दो इतना पोशीदा तरीके से किया गया कि बड़े-बड़े देश दांत तले अंगुली दवाकर रह गये। सारी कार्य योजना का प्रभार मिसाईल मेन ने इस कुशलता के साथ संभाला कि अमेरिका, चीन के खुफिया सेटेलाईट पोखरन दो की तैयारियों को भाप तक नहीं सके।

 

भारतीय किसानों के बारे में आम धारणा रही हे कि वे कर्ज में जन्मते और कर्ज में ही मर जाते हैं। आजादी के पांच दशक के बाद भी किसानों को फसल कर्ज पर 18 प्रतिशत ब्याज और फसल बीमा सुविधा का अभाव, कृषि का बारिश पर निर्भर बना रहना रहा है। श्री अटलजी ने इसे किसानों के साथ अन्याय बताया और तत्कालीन कृषि मंत्री श्री राजनाथ सिंह को ब्याज घटाने और सुरेश प्रभु को नदी जोड़ों योजना बनाने का जिम्मा सौंपा था। किसान को फसल कर्ज पर ब्याज में समूचे देश में राहत मिल चुकी है। मध्यप्रदेश में तो जीरो प्रतिशत ब्याज पर कर्ज मिलने लगा है। केन-बेतवा प्रथम लिंक योजना का निर्माण कार्य वर्ष 2017 में शुरू होने का कार्यक्रम घोषित किया जा चुका है। इससे ग्यारह लाख हेक्टर जमीन पर सिंचाई होगी।

 

रवीश चैहान ने कहा कि उन्होंने देश के प्रहरियों की जिन्दगी में सकून दिया और ड्यूटी पर अपने प्राण न्यौछावर करने वाले फौजी जवानों को उनके गृह स्थान पर शासकीय, सैनिकोचित सम्मान के साथ अंतिम क्रिया करने का गौरव प्रदान किया। श्री रवीश चैहा ने कहा कि श्री अटलबिहारी वाजपेयीे ने देश में गठबंधन शिल्प की रचना कर भारतीय लोकतंत्र में एक विकल्प दिया। स्पष्टवादिता और राजनयिक प्रावीण्य केेे मामले में अटलजी दुनिया के राजनयिकों में बेजोड़ हैं। इससे बढ़कर उनकी लोकप्रियता का प्रमाण क्या होगा कि उन्हें पक्ष, विपक्ष का समान आदर मिलता चला आ रहा है। यह उनकी मिलन सारिता और सहिष्णुता का दुर्लभ मानक है।

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.

loading...

New Delhi

Banner 468 x 60 px